Biography

Author Picture

Madhusudan Mishra Pandit Jyotirmalee

मेधावी ज्योतिषी को वाराणसी के भदैनी निवासी डा. मधुसूदन शास्त्री (जिन्हें तत्कालीन राष्ट्रपति श्री वी.वी गिरी ने उन्हें उनके घर पर आकर सम्मानित किया था) डा. मधुसूदन मिश्र को पं. ज्योतिर्माली कहकर संबोधित किया था और कुलपति श्री करुणापति त्रिपाठी जी ने ज्योतिष सम्राट की उपाधि से विभूषित किया था। श्री मधुसूदन मिश्र के पितामह लक्ष्मीनारायण मिश्र अपने समय के प्रख्यात विद्वान एवं ज्योतिषाचार्य थे। आपके पिता प्रतिष्ठित एवं सफल डाक्टर होने के बावजूद सनातन धर्म के नियम पालक, शास्त्र पुराण एवं ज्योतिष का ज्ञान भी रखते थे।